अलग हर सिम्त से दिखता है मन्ज़र,
नज़रिया है ग़लत क्या और सही क्या.

सोमवार, 28 जून 2010

म्यर कूमाऊँ का.

हरिया यो पहाड़ा.. कूमाऊँ का,
सीढ़ीदारा खेत देखो म्यर गौं का.

वाँ चाओ कैसी है रै बहारा,
बाट लागि छन यो नौला गध्यारा.
लाल गाल ठुम्कि चाल.
लाल गाल ठुम्कि चाल,
म्यर कूमाऊँ का.

हरिया यो पहाड़ा.. कूमाऊँ का,
सीढ़ीदारा खेत देखो म्यर गौं का.


कोयलै कूक और घूघुति पुकारा
सुरीलि हवा में झूमनि द्योदारा
सुर-ताल हाय कमाल,
सुर ताल हाय कमाल,
म्यर कूमाऊँ का.

हरिया यो पहाड़ा.. कूमाऊँ का,
सीढ़ीदारा खेत देखो म्यर गौं का.

हिमाला का पाणी अम्रितै धारा,
याँ धूप गुनगुनी छू ठन्डी बयारा,
जो लै आल गीत गाल
जो लै आल गीत गाल.
म्यर कूमाऊँ का.


हरिया यो पहाड़ा.. कूमाऊँ का,
सीढ़ीदारा खेत देखो म्यर गौं का.


बुराँश फ़ुलि रूँ जस लाल अनारा,
काफ़ला हिसालु की बात छु न्यारा,
बाल बाल हाय बबाल,
बाल बाल हाय बबाल.
म्यर कूमाऊँ का.

हरिया यो पहाड़ा.. कूमाऊँ का,
सीढीदारा खेत देखो म्यर गौं का.

म्यर कूमाऊँ का.
म्यर कूमाऊँ का.

1 टिप्पणी: